रचना चोरों की शामत

Wednesday, 3 July 2013

हज़ार गीत सावनी

हज़ार गीत सावनी, रचे सखी फुहार ने
झुलाएँ झूल, झूमके, लुभावनी बहार में

विशाल व्योम ने रची, सुदर्श रास रंग की
जिया प्रसन्न हो उठा, फुहार में उमंग की
मयूर मस्त नृत्य में, किलोलते  कतार में
अमोघ मेघ गीतिका, सुना रहे मल्हार में

चढ़ी लता छतान पे, बगान को चिढ़ा रही
वसुंधरा, हरीतिमा, बिखेर मुस्कुरा रही 
खिले गुलाब झुंड में, झुकी डगाल भार में
कली-कली हुई विभोर, मौसमी बयार में

दिखी अधीर कोकिला, कुहू कुहू पुकारती
सुरम्य तान छेडके, दिशा दिशा निहारती
कहीं सुदूर चंद्रिका, घनी घटा की आड़ में
कभी दिखी कभी छिपी, धुली हुई फुहार में

सजीं पगों में पायलें, कलाइयों में चूड़ियाँ
मिटा गईं ये बारिशें, दिलों की तल्ख दूरियाँ 
बढ़ी नदी  उमंग से, बहे प्रपात धार में
मनाएँ पर्व सखी, अनंत के विहार में

-कल्पना रामानी 

1 comment:

bhaskar awasthi said...

wah-2 bahut sundar. lagta hai aap chhayawad ka daur fir wapas le aayengi. bua ji ishwar ne punt aur mahadevi ko ikatthe aap ki lekhni me baitha diya hai.

पुनः पधारिए


आप अपना अमूल्य समय देकर मेरे ब्लॉग पर आए यह मेरे लिए हर्षकारक है। मेरी रचना पसंद आने पर अगर आप दो शब्द टिप्पणी स्वरूप लिखेंगे तो अपने सद मित्रों को मन से जुड़ा हुआ महसूस करूँगी और आपकी उपस्थिति का आभास हमेशा मुझे ऊर्जावान बनाए रखेगा।

धन्यवाद सहित

--कल्पना रामानी

Google+ Followers

Followers

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह"हौसलों के पंख"

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह"हौसलों के पंख"
संपर्क-अंजुमन प्रकाशन/ई मेल anjumanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब मेरी ओर से सिर्फ आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क- kalpanasramani@gmail.com-

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह "खेतों ने ख़त लिखा"

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह "खेतों ने ख़त लिखा"
संपर्क-अयन प्रकाशन ई मेल-ayanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क- kalpanasramani@gmail.com

मेरा प्रकाशित ग़ज़ल संग्रह "मैं ग़ज़ल कहती रहूँगी"

मेरा प्रकाशित ग़ज़ल संग्रह "मैं ग़ज़ल कहती रहूँगी"
संपर्क- अयन प्रकाशन-ई मेल ayanayanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क -- kalpanasramani@gmail.com

मेरी प्रकाशित ई बुक

पुरस्कार/सम्मान

पुरस्कार/सम्मान
मेरे प्रथम नवगीत संग्रह "हौसलों के पंख" के लिए पूर्णिमा जी द्वारा नवांकुर पुरस्कार/सम्मान ग्रहण करते हुए