रचना चोरों की शामत

मेरी ई बुक- हौसलों के पंख

Friday, 30 March 2018

अग्नि बाण बरसे अम्बर से

गर्मी का मौसम के लिए इमेज परिणाम
अग्नि-बाण बरसे अम्बर से 
पर श्रम जीवन दौड़ रहा है

डटा हुआ है मंगलू मोची
घने पेड़ के छायाघर में  
आए आज शरण में इसकी    
ज़ख्मी जूते भर दुपहर में  

अर्द्ध-वसन खुद, लेकिन उनका
तन सीवन से जोड़ रहा है

देख घाट पर धरमू धोबी
ओसारे पर ननकू नाई
गुमटी पर गुरमुख पनवाड़ी
भट्टी पर हलकू हलवाई 

धूप हुई  हैरान, किस तरह 
पलटू पत्थर तोड़ रहा है

खेत हुए हैं रेत-रेत सब
सूरज ने अर्ज़ी लौटाई 
फरियादें जब रद्द हो गईं 
हर क्यारी जल-जल मुरझाई    

हलक खुश्क है पर हल लेकर 

हरिया गात निचोड़ रहा है    

-कल्पना रामानी

पुनः पधारिए


आप अपना अमूल्य समय देकर मेरे ब्लॉग पर आए यह मेरे लिए हर्षकारक है। मेरी रचना पसंद आने पर अगर आप दो शब्द टिप्पणी स्वरूप लिखेंगे तो अपने सद मित्रों को मन से जुड़ा हुआ महसूस करूँगी और आपकी उपस्थिति का आभास हमेशा मुझे ऊर्जावान बनाए रखेगा।

धन्यवाद सहित

--कल्पना रामानी

Followers

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह"हौसलों के पंख"

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह"हौसलों के पंख"
संपर्क-अंजुमन प्रकाशन/ई मेल anjumanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब मेरी ओर से सिर्फ आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क- kalpanasramani@gmail.com-

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह "खेतों ने ख़त लिखा"

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह "खेतों ने ख़त लिखा"
संपर्क-अयन प्रकाशन ई मेल-ayanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क- kalpanasramani@gmail.com

मेरा प्रकाशित ग़ज़ल संग्रह "मैं ग़ज़ल कहती रहूँगी"

मेरा प्रकाशित ग़ज़ल संग्रह "मैं ग़ज़ल कहती रहूँगी"
संपर्क- अयन प्रकाशन-ई मेल ayanayanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क -- kalpanasramani@gmail.com

पुरस्कार/सम्मान

पुरस्कार/सम्मान
मेरे प्रथम नवगीत संग्रह "हौसलों के पंख" के लिए पूर्णिमा जी द्वारा नवांकुर पुरस्कार/सम्मान ग्रहण करते हुए