रचना चोरों की शामत

Saturday, 8 December 2012

प्यारे हरसिंगार


 










याद बहुत आता है मुझको
बचपन का संसार।
तब तुम मेरे प्रथम मीत थे
प्यारे हरसिंगार।
 
तुझे उगाकर बड़े जतन से
दूर रखा था हाथ छुअन  से
परछाई से छाया करके
सदा बचाया धूप चुभन से।

बढ़े,खिले, झर उठे अँगन में
आई नई बहार।
 
कितने सुंदर वे दिन बीते। 
थक जाती थी कलियाँ गिनते
कितनी रातें, कितनी बातें?
तुमसे की थीं चुनते चुनते।

कभी चढ़ाया शिव चरणों में
कभी सजाए द्वार।
 
सके तुम संग शहर में
उगा पाई छोटे घर में।
वक्त गुज़रता रहा,खो गए
यादों की अंजान डगर  में।

पूछ रही हैं नई पीढ़ियाँ
क्या थे हरसिंगार।


-कल्पना रामानी

4 comments:

KRISHNA N said...

आ न सके तुम संग शहर में,
उगा न पाई छोटे घर में।
वक्त गुज़रता रहा,खो गए,
यादों की अंजान डगर में।
नई पीढ़ियाँ पूछ रही हैं,
क्या थे हरसिंगार...

बहुत प्यारी रचना है...

शशि पाधा said...

कल्पना जी, बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति | मेरे बचपन के घर में भी हर श्रृंगार की बेला थी | मैं उनके गहने बना कर खेलती थी | हर सुबह उन्हें इकट्ठा करना हम बच्चों का काम था |यह रचना पढ़ के सारे दृश्य याद आगये और मन भीग गया | भगवान आपकी कलम पर वरद हाथ रखे सदा |

shashi purwar said...

bahut sundar abhivyakti kalpana didi ,
hamesha harsingar ne lubhaya hai , aur bachpan me bahut sare phool jama karke orange dandi tod kar rang aur kesar banati thi , uski khooshboo sada lubhati thi , aapke geet bahut sada lubhate hai harsingar se , sada aapke kushal swasth ki prarthana karti hoon , sneh aur saath hamara bana rahe , :)

महेश सोनी said...

कितने महके महके दिन थे,
थक जाती थी कलियाँ गिनते,
कितनी रातें, कितनी बातें,
तुमसे की थीं चुनते चुनते।
कभी चढाया शिव चरणों में,
कभी सजाए द्वार।
बहुत सुन्दर ख़ूबसूरत वर्णन

पुनः पधारिए


आप अपना अमूल्य समय देकर मेरे ब्लॉग पर आए यह मेरे लिए हर्षकारक है। मेरी रचना पसंद आने पर अगर आप दो शब्द टिप्पणी स्वरूप लिखेंगे तो अपने सद मित्रों को मन से जुड़ा हुआ महसूस करूँगी और आपकी उपस्थिति का आभास हमेशा मुझे ऊर्जावान बनाए रखेगा।

धन्यवाद सहित

--कल्पना रामानी

Google+ Followers

Followers

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह"हौसलों के पंख"

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह"हौसलों के पंख"
संपर्क-अंजुमन प्रकाशन/ई मेल anjumanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब मेरी ओर से सिर्फ आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क- kalpanasramani@gmail.com-

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह "खेतों ने ख़त लिखा"

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह "खेतों ने ख़त लिखा"
संपर्क-अयन प्रकाशन ई मेल-ayanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क- kalpanasramani@gmail.com

मेरा प्रकाशित ग़ज़ल संग्रह "मैं ग़ज़ल कहती रहूँगी"

मेरा प्रकाशित ग़ज़ल संग्रह "मैं ग़ज़ल कहती रहूँगी"
संपर्क- अयन प्रकाशन-ई मेल ayanayanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क -- kalpanasramani@gmail.com

मेरी प्रकाशित ई बुक

पुरस्कार/सम्मान

पुरस्कार/सम्मान
मेरे प्रथम नवगीत संग्रह "हौसलों के पंख" के लिए पूर्णिमा जी द्वारा नवांकुर पुरस्कार/सम्मान ग्रहण करते हुए