रचना चोरों की शामत

Tuesday, 29 October 2013

आ गई प्रिय फिर दिवाली













आ गई प्रिय, फिर दिवाली, पर्व पावन है।
एक दीपक तुम जलाओ, इक जलाऊँ मैं।

घोर तम की यामिनी
दुल्हन बनी इतरा रही।
अवनि से अंबर तलक
ज्योतिरमई मन भा रही।
 
रोशनी की रीत यह, युग युग से कायम है।  
दीप में प्रिय, घृत भरो, बाती सजाऊँ मैं।
 
सज रही आँगन रंगोली
द्वार लड़ियाँ हार हैं।
नवल वस्त्रों में सभी   
छोटे बड़े तैयार हैं।
 
यह सगुन की रात है, सँग साज़ सरगम है
प्रिय, सुरों में साथ दो,  शुभ गीत गाऊँ मैं।  
 
शोर से गुंजित दिशाएँ
पटाखों का दौर है
जोश जन जन मन पे छाया
पर्व का पुरजोर है।
 
यह बुराई पर विजय के, जश्न का दिन है
फुलझड़ी तुम थाम लो, प्रिय! लौ दिखाऊँ मैं।
 
थाल हैं पकवान के
पूजा की शुभ थाली सजी।
कमल पर आसीन है
कर दीप धारी लक्ष्मी।


 आ गई मंगल घड़ी, करबद्ध हर जन है
प्रिय, करो तुम आरती, माँ को मनाऊँ मैं।

 -कल्पना रामानी

1 comment:

surenderpal vaidya said...

दीपावली के अवसर पर सुन्दर नवगीत के लिए शुभकामनायें।

पुनः पधारिए


आप अपना अमूल्य समय देकर मेरे ब्लॉग पर आए यह मेरे लिए हर्षकारक है। मेरी रचना पसंद आने पर अगर आप दो शब्द टिप्पणी स्वरूप लिखेंगे तो अपने सद मित्रों को मन से जुड़ा हुआ महसूस करूँगी और आपकी उपस्थिति का आभास हमेशा मुझे ऊर्जावान बनाए रखेगा।

धन्यवाद सहित

--कल्पना रामानी

Google+ Followers

Followers

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह"हौसलों के पंख"

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह"हौसलों के पंख"
संपर्क-अंजुमन प्रकाशन/ई मेल anjumanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब मेरी ओर से सिर्फ आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क- kalpanasramani@gmail.com-

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह "खेतों ने ख़त लिखा"

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह "खेतों ने ख़त लिखा"
संपर्क-अयन प्रकाशन ई मेल-ayanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क- kalpanasramani@gmail.com

मेरा प्रकाशित ग़ज़ल संग्रह "मैं ग़ज़ल कहती रहूँगी"

मेरा प्रकाशित ग़ज़ल संग्रह "मैं ग़ज़ल कहती रहूँगी"
संपर्क- अयन प्रकाशन-ई मेल ayanayanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क -- kalpanasramani@gmail.com

मेरी प्रकाशित ई बुक

पुरस्कार/सम्मान

पुरस्कार/सम्मान
मेरे प्रथम नवगीत संग्रह "हौसलों के पंख" के लिए पूर्णिमा जी द्वारा नवांकुर पुरस्कार/सम्मान ग्रहण करते हुए