रचना चोरों की शामत

Saturday, 14 March 2015

बाकी अभी उजाला है

दिन कहता है करो जतन कुछ
दिनकर ढलने
वाला है।

जीवन को मत जंग लगाओ
बीती भोर नहीं फिर आती
ज्योति-कलश बन, जाएँगे पल   
स बालो मन-बल की बाती

साथ रखो कर्मों की चाबी
अगर भाग्य पर
ताला है।

गम आए यदि गला घोंटने
हिम्मत का दिखलाओ अंकुश  
अगर डराए बदला मौसम
करो धैर्य-शर से अपने वश

बीज निवालों के बो दो
यदि रूठा एक
निवाला है।

जलधि पार मंज़िल है माना  
मगर ज़रूरी हासिल करना     
लहरें आँख दिखाएँ भी तो
आँख मिला उन पर पग धरना

नाव खोल तिरपाल तान
लो, बाकी अभी
उजाला है। 

-कल्पना रामानी    

No comments:

पुनः पधारिए


आप अपना अमूल्य समय देकर मेरे ब्लॉग पर आए यह मेरे लिए हर्षकारक है। मेरी रचना पसंद आने पर अगर आप दो शब्द टिप्पणी स्वरूप लिखेंगे तो अपने सद मित्रों को मन से जुड़ा हुआ महसूस करूँगी और आपकी उपस्थिति का आभास हमेशा मुझे ऊर्जावान बनाए रखेगा।

धन्यवाद सहित

--कल्पना रामानी

Google+ Followers

Followers

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह"हौसलों के पंख"

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह"हौसलों के पंख"
संपर्क-अंजुमन प्रकाशन/ई मेल anjumanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब मेरी ओर से सिर्फ आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क- kalpanasramani@gmail.com-

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह "खेतों ने ख़त लिखा"

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह "खेतों ने ख़त लिखा"
संपर्क-अयन प्रकाशन ई मेल-ayanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क- kalpanasramani@gmail.com

मेरा प्रकाशित ग़ज़ल संग्रह "मैं ग़ज़ल कहती रहूँगी"

मेरा प्रकाशित ग़ज़ल संग्रह "मैं ग़ज़ल कहती रहूँगी"
संपर्क- अयन प्रकाशन-ई मेल ayanayanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क -- kalpanasramani@gmail.com

मेरी प्रकाशित ई बुक

पुरस्कार/सम्मान

पुरस्कार/सम्मान
मेरे प्रथम नवगीत संग्रह "हौसलों के पंख" के लिए पूर्णिमा जी द्वारा नवांकुर पुरस्कार/सम्मान ग्रहण करते हुए