रचना चोरों की शामत

Wednesday, 7 January 2015

गीत मन के मीत

Women, Happy, Shawl, People, The Sea, Pier, Wood, Green
साज, सुर, आवाज़, सरगम

ज़िंदगी के गीत हैं
जुड़ा इनसे मन का बंधन
गीत मन के मीत हैं।

गए उत्सव के दिन
फिर,स्नेह की कड़ियाँ जुड़ीं।
आसमाँ से आज उतरी
ज्यों सुहानी ऋतु परी।

रात पूनम प्रात शबनम
ज़िंदगी के गीत हैं।
अब अँधेरों का नहीं गम
गीत मन के मीत हैं।

फिर मिला बचपन, बहारें
कर रहीं अठखेलियाँ।
फूल पत्तों पर रची हैं
जल कणों की रेलियाँ।

हरित सावन, मुदित उपवन
जिंदगी के गीत हैं
क्यों महके मन का मधुबन
गीत मन के मीत हैं।

पर्वतों पर चंद्रिका की आब 
उजली खीर सी।
बन गए राँझे समंदरऔर
नदियाँ हीर सी।

धार की धुन, प्यार हर दिन
ज़िंदगी के गीत हैं
साथ सारा है ये आलम
गीत मन के मीत हैं।
"हौसलों के पंख" से


-कल्पना रामानी

No comments:

पुनः पधारिए


आप अपना अमूल्य समय देकर मेरे ब्लॉग पर आए यह मेरे लिए हर्षकारक है। मेरी रचना पसंद आने पर अगर आप दो शब्द टिप्पणी स्वरूप लिखेंगे तो अपने सद मित्रों को मन से जुड़ा हुआ महसूस करूँगी और आपकी उपस्थिति का आभास हमेशा मुझे ऊर्जावान बनाए रखेगा।

धन्यवाद सहित

--कल्पना रामानी

Google+ Followers

Followers

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह"हौसलों के पंख"

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह"हौसलों के पंख"
संपर्क-अंजुमन प्रकाशन/ई मेल anjumanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब मेरी ओर से सिर्फ आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क- kalpanasramani@gmail.com-

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह "खेतों ने ख़त लिखा"

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह "खेतों ने ख़त लिखा"
संपर्क-अयन प्रकाशन ई मेल-ayanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क- kalpanasramani@gmail.com

मेरा प्रकाशित ग़ज़ल संग्रह "मैं ग़ज़ल कहती रहूँगी"

मेरा प्रकाशित ग़ज़ल संग्रह "मैं ग़ज़ल कहती रहूँगी"
संपर्क- अयन प्रकाशन-ई मेल ayanayanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क -- kalpanasramani@gmail.com

मेरी प्रकाशित ई बुक

पुरस्कार/सम्मान

पुरस्कार/सम्मान
मेरे प्रथम नवगीत संग्रह "हौसलों के पंख" के लिए पूर्णिमा जी द्वारा नवांकुर पुरस्कार/सम्मान ग्रहण करते हुए