रचना चोरों की शामत

Friday, 10 June 2011

कोई याद कर रहा है

 चित्र से काव्य तक





वक्त अपने कुछ पल,
प्रियतम  को देके आओ,
कोई याद कर रहा है,
संदेश यह सुनाओ।
 
सपना नहीं है जीवन,
इक लंबी हक़ीक़त है।
मिलकर इसे जियें हम,
बस एक ही हसरत है।
क्यों टालते हैं हँसकर,
यह पूछकर तो आओ।
कोई आह भर रहा है,
संदेश यह सुनाओ।
 
छोटी सी मेरी दुनिया,
छोटा सा आशियाना।
तुम  वक्त मेरे घर में,
हर वक्त चले आना।
खोया है मीत मेरा,
उसे ढूँढकर तो लाओ,
कोई राह  तक  रहा है,
संदेश यह सुनाओ।
 
चाहत हुई है आहत,
है व्यस्तता बहाना।
दिल तोड़ने का उनका,
अंदाज़ कातिलाना।
हम रूठ गए कह दो,
आकर हमें मनाओ।
दिलदार घुट रहा है,
संदेश यह सुनाओ।
 
कल वक्त तुम तो होगे,
पर हम वो रहेंगे।
खुशियों भरे ये लम्हें 
तब अलविदा कहेंगे।
जो आज है, अभी है,
वही सत्य है बताओ।
वक्त अपने कुछ पल 
प्रियतम को देके आओ।


-कल्पना रामानी

1 comment:

Kailash Sharma said...

ऐ वक्त अपने कुछ पल,
प्रियतम को देके आओ।
...वाह...लाज़वाब अहसास...बहुत सुन्दर भावमयी प्रस्तुति...

पुनः पधारिए


आप अपना अमूल्य समय देकर मेरे ब्लॉग पर आए यह मेरे लिए हर्षकारक है। मेरी रचना पसंद आने पर अगर आप दो शब्द टिप्पणी स्वरूप लिखेंगे तो अपने सद मित्रों को मन से जुड़ा हुआ महसूस करूँगी और आपकी उपस्थिति का आभास हमेशा मुझे ऊर्जावान बनाए रखेगा।

धन्यवाद सहित

--कल्पना रामानी

Google+ Followers

Followers

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह"हौसलों के पंख"

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह"हौसलों के पंख"
संपर्क-अंजुमन प्रकाशन/ई मेल anjumanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब मेरी ओर से सिर्फ आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क- kalpanasramani@gmail.com-

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह "खेतों ने ख़त लिखा"

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह "खेतों ने ख़त लिखा"
संपर्क-अयन प्रकाशन ई मेल-ayanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क- kalpanasramani@gmail.com

मेरा प्रकाशित ग़ज़ल संग्रह "मैं ग़ज़ल कहती रहूँगी"

मेरा प्रकाशित ग़ज़ल संग्रह "मैं ग़ज़ल कहती रहूँगी"
संपर्क- अयन प्रकाशन-ई मेल ayanayanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क -- kalpanasramani@gmail.com

मेरी प्रकाशित ई बुक

पुरस्कार/सम्मान

पुरस्कार/सम्मान
मेरे प्रथम नवगीत संग्रह "हौसलों के पंख" के लिए पूर्णिमा जी द्वारा नवांकुर पुरस्कार/सम्मान ग्रहण करते हुए