रचना चोरों की शामत

Thursday, 26 January 2012

मिली हमें स्वतन्त्रता













मिली हमें स्वतन्त्रता, अनंत शीश दान से।
निशान तीन रंग का, तना रहे गुमान से।
 
प्रतीक रंग केसरी, जुनून, जोश, क्रांति का,
दिखा रहा सुमार्ग है, सफ़ेद विश्व शांति का।
रुको न चक्र बोलता,  सिखा रहा हमें हरा,
सुखी समृद्ध जीव हों, हरी भरी वसुंधरा।
 
करें प्रणाम साथियों, झुकाएँ शीश, मान से। 
निशान तीन रंग का, तना रहे गुमान से।  
 
सदा स्वदेशी बोलियाँ, सगर्व आप बोलिए।
गुलाम भाष्य-भाव से, जिये तो मीत, क्या जिये।
कठोरता से काट दें, विदेशियों के जाल को।
न आँधियाँ बुझा सकें, स्वतन्त्रता मशाल को।
 
कि हिन्द-पुत्र हिन्दी को, जुबाँ पे लाएँ शान से।
निशान तीन रंग का, तना रहे गुमान से।
 
हटाएँ शूल द्वेष के, बसें गुलों की बस्तियाँ।
विमोह, शोक, रोग की, रहें न शेष अस्थियाँ।
सचेतना, सुभावना, सुकामना  अभंग हो।
समेकता, विवेकता, उदारता का रंग हो।
 
बनी रहे मनुष्यता, सदैव प्रेम दान से।
निशान तीन रंग का तना रहे गुमान से।
 
शहीद तो चले गए, जिहाद रंग ओढ़ के।
कि जागिए मनीषियों, विलास रंग छोड़ के। 
कुनीतियाँ उखाड़के, विकास मंत्र को वरें।
सुनीति, भक्ति, शक्ति से, सजीव तंत्र को करें।
 
सुरक्ष देश आज हो, सशक्त संविधान से।
निशान तीन रंग का, तना रहे गुमान से।
  

-कल्पना रामानी

No comments:

पुनः पधारिए


आप अपना अमूल्य समय देकर मेरे ब्लॉग पर आए यह मेरे लिए हर्षकारक है। मेरी रचना पसंद आने पर अगर आप दो शब्द टिप्पणी स्वरूप लिखेंगे तो अपने सद मित्रों को मन से जुड़ा हुआ महसूस करूँगी और आपकी उपस्थिति का आभास हमेशा मुझे ऊर्जावान बनाए रखेगा।

धन्यवाद सहित

--कल्पना रामानी

Google+ Followers

Followers

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह"हौसलों के पंख"

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह"हौसलों के पंख"
संपर्क-अंजुमन प्रकाशन/ई मेल anjumanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब मेरी ओर से सिर्फ आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क- kalpanasramani@gmail.com-

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह "खेतों ने ख़त लिखा"

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह "खेतों ने ख़त लिखा"
संपर्क-अयन प्रकाशन ई मेल-ayanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क- kalpanasramani@gmail.com

मेरा प्रकाशित ग़ज़ल संग्रह "मैं ग़ज़ल कहती रहूँगी"

मेरा प्रकाशित ग़ज़ल संग्रह "मैं ग़ज़ल कहती रहूँगी"
संपर्क- अयन प्रकाशन-ई मेल ayanayanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क -- kalpanasramani@gmail.com

मेरी प्रकाशित ई बुक

पुरस्कार/सम्मान

पुरस्कार/सम्मान
मेरे प्रथम नवगीत संग्रह "हौसलों के पंख" के लिए पूर्णिमा जी द्वारा नवांकुर पुरस्कार/सम्मान ग्रहण करते हुए