रचना चोरों की शामत

Wednesday, 10 September 2014

इस शहर के रास्तों पर


तुम पथिक, आए कहाँ से,
ठौर किस तुमको ठहरना?
इस शहर के रास्तों पर,
कुछ सँभलकर
पाँव धरना।
 
बात कल की है, यहाँ पर,
कत्ल जीवित वन हुआ था।
जड़ मशीनें जी उठी थीं,
और जड़ जीवन हुआ था।
 
देख थी हैरान कुदरत,
रात का दिन में
उतरना
 
जो युगों से थे खड़े
वे पेड़ धरती पर पड़े थे। 
उस कुटिल तूफान से, तुम  
पूछना कैसे लड़े थे।
 
याद होगा हर दिशा को,
डालियों का वो
सिहरना
 
घर बसे हैं अब जहाँ,
लाखों वहीं बेघर हुए थे।
बेरहम भूकम्प से सब,
बेवतन वनचर हुए थे।
 
खिलखिलाहट आज है, कल
था यहीं यहीं पर 
अश्रु-झरना।
   
हो सके, उनको चढ़ाना,
कुछ सुमन संकल्प करके
कुछ वचन देकर निभाना,
पूर्ण काया-कल्प करके
 
याद में उनकी पथिक! तुम  
एक वन आबाद
करना 

--------कल्पना रामानी

No comments:

पुनः पधारिए


आप अपना अमूल्य समय देकर मेरे ब्लॉग पर आए यह मेरे लिए हर्षकारक है। मेरी रचना पसंद आने पर अगर आप दो शब्द टिप्पणी स्वरूप लिखेंगे तो अपने सद मित्रों को मन से जुड़ा हुआ महसूस करूँगी और आपकी उपस्थिति का आभास हमेशा मुझे ऊर्जावान बनाए रखेगा।

धन्यवाद सहित

--कल्पना रामानी

Google+ Followers

Followers

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह"हौसलों के पंख"

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह"हौसलों के पंख"
संपर्क-अंजुमन प्रकाशन/ई मेल anjumanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब मेरी ओर से सिर्फ आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क- kalpanasramani@gmail.com-

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह "खेतों ने ख़त लिखा"

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह "खेतों ने ख़त लिखा"
संपर्क-अयन प्रकाशन ई मेल-ayanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क- kalpanasramani@gmail.com

मेरा प्रकाशित ग़ज़ल संग्रह "मैं ग़ज़ल कहती रहूँगी"

मेरा प्रकाशित ग़ज़ल संग्रह "मैं ग़ज़ल कहती रहूँगी"
संपर्क- अयन प्रकाशन-ई मेल ayanayanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क -- kalpanasramani@gmail.com

मेरी प्रकाशित ई बुक

पुरस्कार/सम्मान

पुरस्कार/सम्मान
मेरे प्रथम नवगीत संग्रह "हौसलों के पंख" के लिए पूर्णिमा जी द्वारा नवांकुर पुरस्कार/सम्मान ग्रहण करते हुए