रचना चोरों की शामत

Wednesday, 8 January 2014

ऋतु बसंत आई



लदे बौर, शाखें सजीं
सुरभित अमराई।
ऋतु बसंत आई।
 
कोयल कुहकी बाग में
आम्रकुंज महका।
मधुरिम रसित सुगंध से
विहग वृंद बहका।
पुष्प लताओं का जिया
झूम-झूम लहका।

पवन बसंती गा उठी
गूँजी शहनाई।
 
खूब सुना है बसंत में
टेसू  खिलते हैं।
गुलमोहर, कचनार के
सुमन सँवरते हैं।
विजन वनों की गोद में
विचरण करते हैं।

मिलने को बेचैन थी
वन को मैं धाई।
 
अहा धरा! यह किस तरह
तूने रूप धरा।
वासंती शृंगार से
शोभित हर ज़र्रा।
तुझे निरखने व्योम से 
देवलोक उमड़ा।

कुदरत बन ज्यों अप्सरा
यहाँ उतर आई।

-कल्पना रामानी


No comments:

पुनः पधारिए


आप अपना अमूल्य समय देकर मेरे ब्लॉग पर आए यह मेरे लिए हर्षकारक है। मेरी रचना पसंद आने पर अगर आप दो शब्द टिप्पणी स्वरूप लिखेंगे तो अपने सद मित्रों को मन से जुड़ा हुआ महसूस करूँगी और आपकी उपस्थिति का आभास हमेशा मुझे ऊर्जावान बनाए रखेगा।

धन्यवाद सहित

--कल्पना रामानी

Google+ Followers

Followers

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह"हौसलों के पंख"

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह"हौसलों के पंख"
संपर्क-अंजुमन प्रकाशन/ई मेल anjumanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब मेरी ओर से सिर्फ आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क- kalpanasramani@gmail.com-

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह "खेतों ने ख़त लिखा"

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह "खेतों ने ख़त लिखा"
संपर्क-अयन प्रकाशन ई मेल-ayanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क- kalpanasramani@gmail.com

मेरा प्रकाशित ग़ज़ल संग्रह "मैं ग़ज़ल कहती रहूँगी"

मेरा प्रकाशित ग़ज़ल संग्रह "मैं ग़ज़ल कहती रहूँगी"
संपर्क- अयन प्रकाशन-ई मेल ayanayanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क -- kalpanasramani@gmail.com

मेरी प्रकाशित ई बुक

पुरस्कार/सम्मान

पुरस्कार/सम्मान
मेरे प्रथम नवगीत संग्रह "हौसलों के पंख" के लिए पूर्णिमा जी द्वारा नवांकुर पुरस्कार/सम्मान ग्रहण करते हुए