रचना चोरों की शामत

Thursday, 27 September 2012

गोल चाँद की रात













बहुत दिनों के बाद आज माँ
रोटी की फिर याद आई है।
 
कल भी तूने प्याज दिया था।
परसों बस जल घूँट पिया था।
कई दिनों तक सूखे टुकड़े
भिगो भिगो कर स्वाद लिया था।
 
बात मगर वो भूल गया हूँ
रोटी किस दिन हाथ आई है।
 
माँ, क्यों नहीं हमारे घर में
रोज़ रोज़ रोटी बनती है?
बस डिब्बों को खोल खोल कर
बचे हुए दाने गिनती है।
 
महँगाई क्या होती है माँ?
इस घर के क्यों पास आई है। 
 
कहती तो है, मेरे चंदा!
चंदा जैसी रोटी दूँगी।
जिस दिन जैसा चाँद दिखेगा
उस दिन उतनी मोटी दूँगी।
 
आज दिखेगा बड़ा चंद्रमा
कहती बस यह बात आई है।
 
कब तक चने चबाऊँगा माँ?
कब तक सत्तू खाऊँगा मैं।
क्या यूँ ही भूखे रह रह कर
कभी बड़ा हो पाऊँगा मैं?


कब बोलेगी, बतला दे माँ!
गोल चाँद की रात आई है।



-कल्पना रामानी


1 comment:

sharda monga (aroma) said...

very nice Kalpna ji. badhaai.

पुनः पधारिए


आप अपना अमूल्य समय देकर मेरे ब्लॉग पर आए यह मेरे लिए हर्षकारक है। मेरी रचना पसंद आने पर अगर आप दो शब्द टिप्पणी स्वरूप लिखेंगे तो अपने सद मित्रों को मन से जुड़ा हुआ महसूस करूँगी और आपकी उपस्थिति का आभास हमेशा मुझे ऊर्जावान बनाए रखेगा।

धन्यवाद सहित

--कल्पना रामानी

Google+ Followers

Followers

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह"हौसलों के पंख"

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह"हौसलों के पंख"
संपर्क-अंजुमन प्रकाशन/ई मेल anjumanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब मेरी ओर से सिर्फ आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क- kalpanasramani@gmail.com-

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह "खेतों ने ख़त लिखा"

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह "खेतों ने ख़त लिखा"
संपर्क-अयन प्रकाशन ई मेल-ayanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क- kalpanasramani@gmail.com

मेरा प्रकाशित ग़ज़ल संग्रह "मैं ग़ज़ल कहती रहूँगी"

मेरा प्रकाशित ग़ज़ल संग्रह "मैं ग़ज़ल कहती रहूँगी"
संपर्क- अयन प्रकाशन-ई मेल ayanayanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क -- kalpanasramani@gmail.com

मेरी प्रकाशित ई बुक

पुरस्कार/सम्मान

पुरस्कार/सम्मान
मेरे प्रथम नवगीत संग्रह "हौसलों के पंख" के लिए पूर्णिमा जी द्वारा नवांकुर पुरस्कार/सम्मान ग्रहण करते हुए