रचना चोरों की शामत

Thursday, 20 September 2012

उड़ परिंदे,आ रहा पीछे शिकारी

      

उड़ परिंदे!
रहा पीछे शिकारी। 
 
देख उसके हाथ में वो जाल है।  
पेट है फूला, मगर कंगाल है।
तुम सदा ही तृप्त हो, संतुष्ट हो
भूख से वहशी बड़ा बेहाल है।
 
अरे, चल दे!
पंख नोचेगा भिखारी।   
 
जीव हत्या उस वधिक का लक्ष्य है।
जीव का ही रक्त उसका भक्ष्य है।
आसमाँ तेरा, धनी है तू सदा,
जा वहाँ, जिस छोर पर तू रक्ष्य है।
 
जाग बंदे!  
वरन कटने की है बारी।
 
जाल में दाने बिछाकर वो खड़ा।
मौत की दावत तुझे देने अड़ा
देख लालच में आना भाग ले
धूर्त,पापी, कुटिल है कातिल बड़ा।
 
उस दरिंदे
की सदा खाली पिटारी।  
    
-कल्पना रामानी

1 comment:

ashu said...

पेट है फूला, मगर कंगाल है।

यह रचना उतम है और इसमें दर्शन भी है.सन्देश भी.
पेट है फूला, मगर कंगाल है।
मेरा व्यक्तिगत राय है, पेट है फुला ये बताता है की उसका पेट भरा है फिर भी वो और और भूखा है . अगर यह कहना चाहती है तो यहाँ कंगाल शब्द नहीं होना चाहिय था

पुनः पधारिए


आप अपना अमूल्य समय देकर मेरे ब्लॉग पर आए यह मेरे लिए हर्षकारक है। मेरी रचना पसंद आने पर अगर आप दो शब्द टिप्पणी स्वरूप लिखेंगे तो अपने सद मित्रों को मन से जुड़ा हुआ महसूस करूँगी और आपकी उपस्थिति का आभास हमेशा मुझे ऊर्जावान बनाए रखेगा।

धन्यवाद सहित

--कल्पना रामानी

Google+ Followers

Followers

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह"हौसलों के पंख"

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह"हौसलों के पंख"
संपर्क-अंजुमन प्रकाशन/ई मेल anjumanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब मेरी ओर से सिर्फ आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क- kalpanasramani@gmail.com-

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह "खेतों ने ख़त लिखा"

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह "खेतों ने ख़त लिखा"
संपर्क-अयन प्रकाशन ई मेल-ayanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क- kalpanasramani@gmail.com

मेरा प्रकाशित ग़ज़ल संग्रह "मैं ग़ज़ल कहती रहूँगी"

मेरा प्रकाशित ग़ज़ल संग्रह "मैं ग़ज़ल कहती रहूँगी"
संपर्क- अयन प्रकाशन-ई मेल ayanayanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क -- kalpanasramani@gmail.com

मेरी प्रकाशित ई बुक

पुरस्कार/सम्मान

पुरस्कार/सम्मान
मेरे प्रथम नवगीत संग्रह "हौसलों के पंख" के लिए पूर्णिमा जी द्वारा नवांकुर पुरस्कार/सम्मान ग्रहण करते हुए