रचना चोरों की शामत

Wednesday, 20 August 2014

घाट से मंदिर तलक







बदनसीबों को बसाकर गोद में,
ढँकती रहीं ये सीढ़ियाँ।
घाट से मंदिर तलक बढ़ते कदम,
तकती रहीं ये सीढ़ियाँ।  
 
धूप, दीपक आरती
से, जाग जाती रोज़ प्रात।  
दिन भजन करते मगन
बाँटतीं शामें प्रसाद।  
 
शेष को भूखे नयन तरसा किए,  
लखती रहीं ये सीढ़ियाँ।  
 
मूर्तियों के सामने,
लगते रहे नित रत्न ढेर।
तिलक धारी चेहरे,
फलते रहे कुछ मंत्र टेर।  
 
चंद सिक्के पुण्य पाने जो गिरे,
गिनती रहीं ये सीढ़ियाँ।
 
शंख बजते ही रहे,
बढ़ती रही भूखी कतार।
सीढ़ियों का दर्द से,
होता रहा दिल तार-तार।
  
देवता दृग मूँदकर सोते रहे,
जगती रहीं ये सीढ़ियाँ।
 
ख़ुदकुशी ये कर न पाईं,
छोडकर इतने अनाथ।
व्यग्र अंधी भीड़ में,
कोई नहीं था नेक हाथ।
 
सर्प सारे सिर उठा चढ़ते गए,
दबती रहीं ये सीढ़ियाँ। 

--------कल्पना रामानी  

No comments:

पुनः पधारिए


आप अपना अमूल्य समय देकर मेरे ब्लॉग पर आए यह मेरे लिए हर्षकारक है। मेरी रचना पसंद आने पर अगर आप दो शब्द टिप्पणी स्वरूप लिखेंगे तो अपने सद मित्रों को मन से जुड़ा हुआ महसूस करूँगी और आपकी उपस्थिति का आभास हमेशा मुझे ऊर्जावान बनाए रखेगा।

धन्यवाद सहित

--कल्पना रामानी

Google+ Followers

Followers

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह"हौसलों के पंख"

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह"हौसलों के पंख"
संपर्क-अंजुमन प्रकाशन/ई मेल anjumanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब मेरी ओर से सिर्फ आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क- kalpanasramani@gmail.com-

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह "खेतों ने ख़त लिखा"

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह "खेतों ने ख़त लिखा"
संपर्क-अयन प्रकाशन ई मेल-ayanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क- kalpanasramani@gmail.com

मेरा प्रकाशित ग़ज़ल संग्रह "मैं ग़ज़ल कहती रहूँगी"

मेरा प्रकाशित ग़ज़ल संग्रह "मैं ग़ज़ल कहती रहूँगी"
संपर्क- अयन प्रकाशन-ई मेल ayanayanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क -- kalpanasramani@gmail.com

मेरी प्रकाशित ई बुक

पुरस्कार/सम्मान

पुरस्कार/सम्मान
मेरे प्रथम नवगीत संग्रह "हौसलों के पंख" के लिए पूर्णिमा जी द्वारा नवांकुर पुरस्कार/सम्मान ग्रहण करते हुए