रचना चोरों की शामत

Sunday, 22 September 2013

नारी जहाँ सताई जाए














बहुत विश्व में अब भी कोने
नारी जहाँ सताई जाए।
जिसने अक्षर कभी पढ़े ना
कविता उसको कौन सुनाए।

मिलते नहीं पेट भर दाने
पिसती लेकिन दानों जैसी।
चीखें रुदन दबा अंतर में।
पिटती वो हैवानों जैसी।

स्वजनों को सींचे अमृत से।
स्वयं हलाहल प्याला पाए।

व्यथा कथा यह उस नारी की
जिस पर नज़र न कोई जाती।
समानता  के  दावे  झूठे
नर होते  नारी  पर  हावी।

कभी प्यार के बोल सुने ना
गीत छंद के कैसे गाए।

जिन कदमों ने छुआ गगन को
कभी न उस कोने तक पहुँचे।
जहाँ बनी अभिषाप अशिक्षा
नरपशु लक्ष्मण रेखा खींचे।

कहाँ न्याय के मंदिर उसके?
कौन उसे वो राह दिखाए।

दिवस न कोई उसका आता
अंकित होती केवल गाथा।
देता  है  इतिहास  गवाही
लिखने वाला ही यश पाता।

रचना तेरी देख रचयिता
तिल तिल अपना रूप गँवाए।

-कल्पना रामानी

No comments:

पुनः पधारिए


आप अपना अमूल्य समय देकर मेरे ब्लॉग पर आए यह मेरे लिए हर्षकारक है। मेरी रचना पसंद आने पर अगर आप दो शब्द टिप्पणी स्वरूप लिखेंगे तो अपने सद मित्रों को मन से जुड़ा हुआ महसूस करूँगी और आपकी उपस्थिति का आभास हमेशा मुझे ऊर्जावान बनाए रखेगा।

धन्यवाद सहित

--कल्पना रामानी

Google+ Followers

Followers

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह"हौसलों के पंख"

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह"हौसलों के पंख"
संपर्क-अंजुमन प्रकाशन/ई मेल anjumanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब मेरी ओर से सिर्फ आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क- kalpanasramani@gmail.com-

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह "खेतों ने ख़त लिखा"

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह "खेतों ने ख़त लिखा"
संपर्क-अयन प्रकाशन ई मेल-ayanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क- kalpanasramani@gmail.com

मेरा प्रकाशित ग़ज़ल संग्रह "मैं ग़ज़ल कहती रहूँगी"

मेरा प्रकाशित ग़ज़ल संग्रह "मैं ग़ज़ल कहती रहूँगी"
संपर्क- अयन प्रकाशन-ई मेल ayanayanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क -- kalpanasramani@gmail.com

मेरी प्रकाशित ई बुक

पुरस्कार/सम्मान

पुरस्कार/सम्मान
मेरे प्रथम नवगीत संग्रह "हौसलों के पंख" के लिए पूर्णिमा जी द्वारा नवांकुर पुरस्कार/सम्मान ग्रहण करते हुए