रचना चोरों की शामत

Thursday, 22 August 2013

सावन सुखा दिया













कुदरत के कायदों को,
पल में भुला दिया,
विष बीज बोके मानव!
सावन सुखा दिया।
 
क्या कुछ नहीं मिला था,
पुरखों से आपको,
अमृत कलश से सींचा,
अपने विनाश को।
 
जन्नत सी मेदिनी को,
दोजख बना दिया।
 
बूँदें बचा न पाये,
बादल भी क्या करे?
कब, क्यों, कहाँ वो बरसे,
क्यों फिक्र वो करे?
 
बल खाते निर्झरों को,
निर्जल बना दिया।
 
जग बन गया  मशीनी
मौसम धुआँ धुआँ,
दम घोंटती  हवाएँ,
विष युक्त आसमाँ।
 
खोकर बहार अपनी,
पतझड़ बसा लिया।
 
नई पौध के लिए जल,
रह जाएगा कथा।
बोतल में बंद पानी।
कह देगा सब व्यथा।
 
दोहन किया हमेशा,
रक्षण न गर किया।

--------कल्पना रामानी

2 comments:

Brijesh Neeraj said...

आपकी यह सुन्दर रचना दिनांक 23.08.2013 को http://blogprasaran.blogspot.in/ पर लिंक की गयी है। कृपया इसे देखें और अपने सुझाव दें।

मदन मोहन सक्सेना said...

सुन्दर ,सरल और प्रभाबशाली रचना। बधाई। कभी यहाँ भी पधारें।
सादर मदन
http://saxenamadanmohan1969.blogspot.in/
http://saxenamadanmohan.blogspot.in/

पुनः पधारिए


आप अपना अमूल्य समय देकर मेरे ब्लॉग पर आए यह मेरे लिए हर्षकारक है। मेरी रचना पसंद आने पर अगर आप दो शब्द टिप्पणी स्वरूप लिखेंगे तो अपने सद मित्रों को मन से जुड़ा हुआ महसूस करूँगी और आपकी उपस्थिति का आभास हमेशा मुझे ऊर्जावान बनाए रखेगा।

धन्यवाद सहित

--कल्पना रामानी

Google+ Followers

Followers

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह"हौसलों के पंख"

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह"हौसलों के पंख"
संपर्क-अंजुमन प्रकाशन/ई मेल anjumanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब मेरी ओर से सिर्फ आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क- kalpanasramani@gmail.com-

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह "खेतों ने ख़त लिखा"

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह "खेतों ने ख़त लिखा"
संपर्क-अयन प्रकाशन ई मेल-ayanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क- kalpanasramani@gmail.com

मेरा प्रकाशित ग़ज़ल संग्रह "मैं ग़ज़ल कहती रहूँगी"

मेरा प्रकाशित ग़ज़ल संग्रह "मैं ग़ज़ल कहती रहूँगी"
संपर्क- अयन प्रकाशन-ई मेल ayanayanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क -- kalpanasramani@gmail.com

मेरी प्रकाशित ई बुक

पुरस्कार/सम्मान

पुरस्कार/सम्मान
मेरे प्रथम नवगीत संग्रह "हौसलों के पंख" के लिए पूर्णिमा जी द्वारा नवांकुर पुरस्कार/सम्मान ग्रहण करते हुए