रचना चोरों की शामत

Monday, 3 March 2014

वीरेश अरोड़ा "वीर"द्वारा नवगीत संग्रह "हौसलों के पंख" पर की हुई समीक्षा

"हौसलों के पंख" आदरणीय कल्पना रामानी जी का प्रथम प्रकाशित काव्य संग्रह होते हुए भी साहित्यिक ऊर्जा, काव्य शिल्प की सुघड़ता व विचारों की परिपक्वता से ओत-प्रोत है। कविताओं में भाषा की सरलता सरसता सहजता व हृदय ग्राहिता तो है ही, भावों की सौम्यता शुभ्रता भी पाठकों का मन मोह लेने में पूर्णतः सक्षम है।  नारी कण्ठ की मधुरता होने के कारण "सोने में सुहागा" की उक्ति भी चरितार्थ होती है।  इस संकलन में कल्पना जी की सबसे बड़ी विशेषता यह लगी कि विपरीत परिस्थितियों, विषम वातावरण व जीवन के उतार - चढ़ाव में जहाँ आम व्याक्ति उदास निराश व हताश हो जाता है वहीँ कल्पना जी ने अदबुध शौर्य व हिम्मत का परिचय दिया है।  उनकी आशावादिता, शुभ संकल्पों के प्रति दृढ़ता का परिचय उनकी पहली रचना में ही पढ़ने को मिल गया-

"हौसलो के पंख हो तो चिर विजय होगी" इसी रचना में वे आगे लिखती हैं कि - "मंजिलों को पा ही लेंगें कर्मरत योगी" तथा "ठोस हों संकल्प यदि तो साथ देगी हर लहर" कल्पना जी के इस संकलन की रचनाओं में महिला शक्ति, अधिकार व स्वतंत्रता के साथ ही कन्या भ्रूण हत्या (अजन्मी बेटी) जैसे विषय पर सामाजिक सरोकार यत्र तत्र सर्वत्र मिलते हैं, वहीँ पर्यावरण के प्रति जागरूकता भी स्पष्ट रूपेण दृष्टिगत होती है।

 खि नीम तले, सावन (सावन का सत्कार), बसन्त (ऋतु बसन्त आई), बरसात (स्नेह सुधा बरसाओ मेघा), ग्रीष्म (गरम धूप में बचपन ढूँढे), पतझड़ व शीत ऋतु जैसी रचनाएँ उनके प्रकृति प्रेम की बहुरंगता को दर्शाती हैं। जहाँ “बेटी तुम”, “अजन्मी बेटी”, “पापा तुम्हारे लिए”, “कहलाऊँ तेरा सपूत”, “नारी जहाँ सताई जाए”, “आज की नारी”, “माँ के बाद” व गीत मन के मीत” में नारी ह्रदय की सहजता, सरलता व आत्मीयता अत्यंत अपनत्व सनी बन पड़ी है, वहीं कृतज्ञता की अभिव्यक्ति में "तुम्हे क्या दें गंगा माँ" शीर्षक रचना में क्या खूब लिखा है -" ऋणी रहेगा सदा तुम्हारा माटी के इस तन का कण कण।  ऐसा कुछ सद्ज्ञान हमें दो संस्कृति का फिर से प्रवेश हो"

"मद्य निषेध सजा पन्नों पर”में – “दीन देश की यही त्रासदी” जैसी रचनाएँ  समाज में व्याप्त कुरीतियों  पर कवयित्री की चिंता तथा समाज सुधार के लिए उनके नारी मन की व्यग्रता दर्शाती है।  मातृभाषा हिंदी के सम्बन्ध में लिखी गई रचना- "हस्ताक्षर हिन्दी के" व "हिन्दी की मशाल" की ये पंक्तियाँ तो कंठस्थ कर लेने जैसी है :-

"हिन्दी का इतिहास पुराना/ सकल विश्व ने भी यह माना/ शब्द शब्द में छिपा हुआ है/संस्कृति का अनमोल खजाना"

     " जय भारत माँ " शीर्षक वाली रचना उनके देश प्रेम / राष्ट्रीय भावनाओं को उजागर करती है वहीं वृक्षों की बिना सोचे समझे कटाई पर कवयित्री का भावुक मन जिस तरह वयथित हो जाता है उसे "करणी का फल धरणी देगी" शीर्षक की रचना में देखा जा सकता है।  

              सभ्यता की चकाचौंध में शहरों के आकर्षण व ग्रामों की दुर्दशा के बारे में कितना सही लिखा है :-"भीड़ है पर है अकेला आदमी/स्नेहवर्षा को तरसता आदमी" आज राजनीति के दुश्चक्र में सामान्य आदमी की जो दुर्दशा हुई है और जन नेता जन-जन का जिस तरह शोषण कर रहे है उसे भी आपने बड़ी वेदना के साथ भावुक शब्दों से अपनी रचना में उकेरा है :" राजा बनकर रहे गाँव में, अब मजदूर शहर में, रहने को मजबूर हो गए, दड़बों जैसे घर में .....शोषित है अब जनता सारी, करुण कथा अब किसे कहें? जो समर्थ हैं वही लुटेरे हर सीमा को लाँघ रहे ...."
     कुल मिलाकर कहा जा सकता है कि कल्पना जी द्वारा रचित "हौसलों के पंख" समाज व वातावरण के विभिन्न आयामों को बड़ी कुशलता व कुशाग्रता से अभिव्यक्त कर रही है वे इसी तरह अनवरत साहित्य सृजन करते हुई हिन्दी पाठकों व कविता रसिकों की आशा अपेक्षाएँ पूर्ण करती रहेंगी इसी विश्वास के साथ ... शुभकामनाओं सहित ..

स्नेहाभिलाषी

वीरेश अरोड़ा "वीर

1 comment:

SUMIT PRATAP SINGH said...

समीक्षाकार द्वारा की गई समीक्षा से ज्ञात होता है कि पुस्तक को हृदय से पढ़कर समीक्षा की गई है. रचनाकार एवं समीक्षाकार दोनों को बहुत-बहुत बधाई व शुभकामनाएँ...

पुनः पधारिए


आप अपना अमूल्य समय देकर मेरे ब्लॉग पर आए यह मेरे लिए हर्षकारक है। मेरी रचना पसंद आने पर अगर आप दो शब्द टिप्पणी स्वरूप लिखेंगे तो अपने सद मित्रों को मन से जुड़ा हुआ महसूस करूँगी और आपकी उपस्थिति का आभास हमेशा मुझे ऊर्जावान बनाए रखेगा।

धन्यवाद सहित

--कल्पना रामानी

Google+ Followers

Followers

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह"हौसलों के पंख"

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह"हौसलों के पंख"
संपर्क-अंजुमन प्रकाशन/ई मेल anjumanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब मेरी ओर से सिर्फ आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क- kalpanasramani@gmail.com-

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह "खेतों ने ख़त लिखा"

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह "खेतों ने ख़त लिखा"
संपर्क-अयन प्रकाशन ई मेल-ayanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क- kalpanasramani@gmail.com

मेरा प्रकाशित ग़ज़ल संग्रह "मैं ग़ज़ल कहती रहूँगी"

मेरा प्रकाशित ग़ज़ल संग्रह "मैं ग़ज़ल कहती रहूँगी"
संपर्क- अयन प्रकाशन-ई मेल ayanayanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क -- kalpanasramani@gmail.com

मेरी प्रकाशित ई बुक

पुरस्कार/सम्मान

पुरस्कार/सम्मान
मेरे प्रथम नवगीत संग्रह "हौसलों के पंख" के लिए पूर्णिमा जी द्वारा नवांकुर पुरस्कार/सम्मान ग्रहण करते हुए