रचना चोरों की शामत

Friday, 7 September 2012

हिंदी में लिखने के लिए


जिन्हें कंप्यूटर पर सीधे देवनागरी में लिखने की विधि नहीं पता और वे सीधे देवनागरी में लिखना चाहते हैं वे माइक्रोसॉफ्ट का इंडिक लैंगवेज़ इनपुट टूल अपने कंप्यूटर में संस्थापित कर लें।

उसे यहाँ से


Install  Desktop Version क्लिक कर  डाऊनलोड करना होगा। यहीं पर दाहिनी ओर उसका  डेमो भी दिया है, ताकि आप उसे देखकर क्रमवार उसी प्रकार करते जाएँ।

जिन्हें  डेमो के वीडियो से उतना सुविधाजनक न प्रतीत हो वे  यहाँ से सहायता  लें और  दिए गए निर्देशों का क्रमवार आवश्यकतानुसार पालन करते जाएँ -



इस लिंक को डाउनलोड कर के आप हिंदी भाषा ( देवनागरी) में ऑनलाइन और आफ लाइन यहाँ तक की वर्ल्ड की फाइल में भी सीधे हिंदी ( देवनागरी) लिख सकते हो बिना किसी फौंट सपोर्ट के ! आप इस लिंक को डाउन लोड कीजिये उसके बाद रन करा दीजिये रन समाप्त होते ही आप के सिस्टम पर इन्टरनेट सिग्नल के पास EN या HI दिखेगा, इंग्लिश के लिए आप को EN का चुनाव करना है और हिंदी ( देवनागरी) के लिए HI का चुनाव करना है ....

No comments:

पुनः पधारिए


आप अपना अमूल्य समय देकर मेरे ब्लॉग पर आए यह मेरे लिए हर्षकारक है। मेरी रचना पसंद आने पर अगर आप दो शब्द टिप्पणी स्वरूप लिखेंगे तो अपने सद मित्रों को मन से जुड़ा हुआ महसूस करूँगी और आपकी उपस्थिति का आभास हमेशा मुझे ऊर्जावान बनाए रखेगा।

धन्यवाद सहित

--कल्पना रामानी

Google+ Followers

Followers

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह"हौसलों के पंख"

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह"हौसलों के पंख"
संपर्क-अंजुमन प्रकाशन/ई मेल anjumanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब मेरी ओर से सिर्फ आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क- kalpanasramani@gmail.com-

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह "खेतों ने ख़त लिखा"

मेरा प्रकाशित नवगीत संग्रह "खेतों ने ख़त लिखा"
संपर्क-अयन प्रकाशन ई मेल-ayanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क- kalpanasramani@gmail.com

मेरा प्रकाशित ग़ज़ल संग्रह "मैं ग़ज़ल कहती रहूँगी"

मेरा प्रकाशित ग़ज़ल संग्रह "मैं ग़ज़ल कहती रहूँगी"
संपर्क- अयन प्रकाशन-ई मेल ayanayanprakashan@gmail.com/मित्रों के लिए यह किताब आधी कीमत पर उपलब्ध है। संपर्क -- kalpanasramani@gmail.com

मेरी प्रकाशित ई बुक

पुरस्कार/सम्मान

पुरस्कार/सम्मान
मेरे प्रथम नवगीत संग्रह "हौसलों के पंख" के लिए पूर्णिमा जी द्वारा नवांकुर पुरस्कार/सम्मान ग्रहण करते हुए